CBSE का प्रस्ताव – कक्षा 9 से 12 के लिए ओपन बुक परीक्षण

CBSE की नई पहल: छात्रों के लिए एक नया परीक्षण प्रणाली

CBSE ने हाल ही में एक नई पहल की घोषणा की है, जिसके तहत कक्षा 9 से 12 तक के छात्रों के लिए एक पायलट परियोजना के रूप में ओपन बुक परीक्षण का आयोजन किया जाएगा। इस पायलट परियोजना का उद्देश्य छात्रों को एक नए प्रकार के परीक्षण प्रणाली के साथ परिचित कराना है। (CBSE का प्रस्ताव – कक्षा 9 से 12 के लिए ओपन बुक परीक्षण )

CBSE का प्रस्ताव - कक्षा 9 से 12 के लिए ओपन बुक परीक्षण

 

ओपन बुक परीक्षण का अर्थ

ओपन बुक परीक्षण, जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, एक ऐसा प्रक्रिया है जिसमें छात्रों को परीक्षा के समय उनकी खुद की उपलब्ध पुस्तकें और स्रोतों का उपयोग करने की अनुमति होती है। यह एक नए दृष्टिकोण से पढ़ाई की प्रक्रिया में बदलाव लाने का प्रयास है जो छात्रों को अधिक समर्थन और स्वतंत्रता प्रदान कर सकता है।

CBSE का उद्देश्य

CBSE का उद्देश्य इस पायलट परियोजना के माध्यम से छात्रों को परीक्षा की तैयारी में नई दिशा और स्वतंत्रता प्रदान करना है। इसका मकसद है छात्रों को सिर्फ थैले भरे ज्ञान से नहीं, बल्कि विचार करने और समस्याओं का समाधान करने की क्षमता के साथ समृद्धि करने में मदद करना है।

परियोजना के फायदे

इस परीक्षा प्रणाली के प्रमुख फायदे इसमें सामाहिक समाज, छात्रों के मानसिक स्वास्थ्य, और स्वतंत्रता की बढ़ती हुई आवश्यकता है। यह छात्रों को सिर्फ रट्टे मारने की जगह, विचार करने और समझने की क्षमता को बढ़ावा देने का प्रदान करता है।

छात्रों के लिए स्वतंत्रता

ओपन बुक परीक्षण छात्रों को उनकी पसंदीदा स्रोतों का उपयोग करने की स्वतंत्रता प्रदान करता है। यह छात्रों को अपनी अच्छाईयों पर ध्यान केंद्रित करने में मदद कर सकता है और उन्हें अधिक संरचित और अच्छी तैयारी करने का अवसर देता है।

इस सफलता का राज है ओपन बुकों में छुपा जादू। छात्रों को मिलेगा अपनी पसंदीदा पुस्तकों से नई दुनियाओं का आलंब। यह है वो राह, जिसमें आसमान भी होगा हमारी छुओं के बिना छुए।

सामाजिक समर्थन

इस प्रणाली से, छात्रों को अधिक सामाजिक समर्थन मिलता है क्योंकि वे अपने दोस्तों और शिक्षकों के साथ आपसी बहस और उनके विचारों का अभ्यास कर सकते हैं।

छात्रों के लिए समर्थन की तैयारी

ओपन बुक परीक्षण की तैयारी करने वाले छात्रों को समर्थन और मार्गदर्शन की आवश्यकता है। उन्हें अच्छी तैयारी के लिए सहारा मिलने चाहिए ताकि वे परीक्षा के समय आत्मनिर्भरता से सामर्थ्य दिखा सकें|

cbse

 

नई परीक्षा प्रणाली का स्वागत

इस प्रणाली का स्वागत हमें एक नई परीक्षा प्रणाली की ओर करता है, जो छात्रों को नए और अधिक सुरक्षित संदर्भ में तैयार कर सकती है। यह एक नए युग की शुरुआत है जो छात्रों को विकसित करने में मदद कर सकता है।

FAQs
  1. इस परीक्षा प्रणाली का उद्देश्य क्या है?
    • CBSE का उद्देश्य छात्रों को एक नई परीक्षा प्रणाली के साथ परिचित कराना है, जिससे उन्हें विचारशीलता और स्वतंत्रता मिले।
  2. ओपन बुक परीक्षण क्या है?
    • ओपन बुक परीक्षण एक प्रक्रिया है जिसमें छात्रों को परीक्षा के समय उनकी खुद की पुस्तकों का उपयोग करने की अनुमति होती है।
  3. इस परीक्षा प्रणाली के क्या फायदे हैं?
    • इस प्रणाली से सामाजिक समर्थन, छात्रों की स्वतंत्रता, और सोचने की क्षमता में वृद्धि होती है।
  4. क्या ओपन बुक परीक्षण से छात्रों को सहारा मिलेगा?
    • हाँ, ओपन बुक परीक्षण छात्रों को उनकी पसंदीदा स्रोतों का उपयोग करने में सहारा प्रदान कर सकता है।
  5. क्या इस पायलट परियोजना का हिस्सा बनना चाहिए?
    • हाँ, छात्रों को नई परीक्षा प्रणाली के साथ परिचित कराने के लिए इस पायलट परियोजना का हिस्सा बनना चाहिए।
इसे भी पढ़ें:-

1 thought on “CBSE का प्रस्ताव – कक्षा 9 से 12 के लिए ओपन बुक परीक्षण”

  1. Pingback: भूगोल और मानव जीवन: संबंध और प्रभाव | भूगोल और मानव जीवन

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top
तुलसीदास के दोहे और चौपाई | तुलसीदास के दोहे रामचरितमानस जयशंकर प्रसाद | जयशंकर प्रसाद का जीवन परिचय महादेवी वर्मा: एक अद्भुत कवयित्री का सफर राष्ट्र निर्माण में युवा की भूमिका mental-health-and-well-being g20-group-of-20 Social Media Marketing for Small Business स्वामी विवेकानंद का जीवन परिचय